श्रेणी के अनुसार पोस्ट: राजनीति

सुरेश गोपी, पहली बार बने केंद्रीय राज्यमंत्री, ने जताई मंत्रिपद से मुक्त होने की इच्छा

सुरेश गोपी, पहली बार बने केंद्रीय राज्यमंत्री, ने जताई मंत्रिपद से मुक्त होने की इच्छा

10 जून 2024

सुरेश गोपी, जो एक अभिनेता से राजनेता बने हैं और केरल से भाजपा सांसद हैं, ने केंद्रीय राज्यमंत्री का पद ग्रहण किया। हालांकि, दिल्ली में एक इंटरव्यू में गोपी ने कहा कि उन्हें कैबिनेट में शामिल नहीं होना था और उन्होंने पार्टी को अपनी असहमति से अवगत कराया था। उन्होंने लोकसभा चुनाव अभियान में 'थ्रिसूर के लिए केंद्रीय मंत्री, मोदी जी की गारंटी' का नारा लगाया था, लेकिन अब वे सांसद के रूप में अपने कर्तव्यों पर ध्यान केंद्रित करना चाहते हैं।

जारी रखें पढ़ रहे हैं...
रवनीत सिंह बिट्टू को मंत्रिमंडल में शामिल करने का विश्वास, लुधियाना चुनाव हारने के बावजूद

रवनीत सिंह बिट्टू को मंत्रिमंडल में शामिल करने का विश्वास, लुधियाना चुनाव हारने के बावजूद

9 जून 2024

रवनीत सिंह बिट्टू, जो कि तीन बार के सांसद और भाजपा नेता हैं, मानते हैं कि उन्हें आगामी नरेंद्र मोदी सरकार में मंत्री पद के लिए चुना गया है। हालाँकि वे लुधियाना चुनाव कांग्रेस के अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग से हार गए थे, बिट्टू ने केंद्र सरकार के विकास में योगदान देने के अवसर के लिए आभार व्यक्त किया। बिट्टू का कहना है कि भाजपा का समर्पण पंजाब के विकास के प्रति उनके लिए महत्वपूर्ण है।

जारी रखें पढ़ रहे हैं...
लोकसभा चुनाव 2024: राज्यों के नतीजों का विश्लेषण और भाजपा की स्थिति

लोकसभा चुनाव 2024: राज्यों के नतीजों का विश्लेषण और भाजपा की स्थिति

6 जून 2024

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने लोकसभा चुनाव 2024 में 240 सीटें जीतीं, जो 2019 में जीती गई 303 सीटों से कम हैं। नरेंद्र मोदी 8 जून को तीसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे। भाजपा के लिए उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी की मजबूत प्रदर्शन और महाराष्ट्र में कांग्रेस, उद्धव ठाकरे और शरद पवार की सगंठन समस्याएं मुख्य कारण रहे। ममता बनर्जी ने पश्चिम बंगाल में अपनी पकड़ बनाए रखी है।

जारी रखें पढ़ रहे हैं...
लोकसभा चुनाव 2024: राहुल गांधी रायबरेली और वायनाड में बढ़त में आगे

लोकसभा चुनाव 2024: राहुल गांधी रायबरेली और वायनाड में बढ़त में आगे

4 जून 2024

2024 के लोकसभा चुनावों में, कांग्रेस नेता राहुल गांधी रायबरेली और वायनाड दोनों निर्वाचन क्षेत्रों में बढ़त बनाए हुए हैं। वायनाड में, वह भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीआई) की एनी राजा के खिलाफ 3,44,709 वोटों से आगे हैं। रायबरेली में, उन्होंने अपनी मां के 2019 के चुनाव की जीत को पार कर लिया है। राहुल गांधी के लिए यह चुनाव 2019 की तुलना में महत्वपूर्ण सुधार है।

जारी रखें पढ़ रहे हैं...